मुख्य समाचार

DAINIKMAIL SHOCKING पंजाब प्रेस क्लब की AGM में भारी विरोध पर भी सतनाम मानक को जबरन प्रधान थोपने का विवाद गर्माया, कई मेम्बरों ने डीसी को दी शिकायत, प्रेस क्लब की प्रधान बनते ही भारी विरोध सहने वाले मानक पहले प्रधान बने

Published on 17 Oct, 2021 05:09 PM.

पंजाब प्रेस क्लब की AGM में भारी विरोध के बावजूद सतनाम मानक को प्रधान थोपने का मामला तूल पकड़ गया है। पंजाब प्रेस क्लब का इतिहास स्वर्णिम रहा है क्योंकि सभी सदस्य आज से पहले तक हर प्रधान का सम्मान करते आये है। मगर सतनाम मानक को प्रधान बनने के बाद पत्रकारों का ऐसा सलूक सहना पड़ेगा ऐसा उन्होंने भी नही सोच होगा। दरअसल सतनाम मानक का नाम जब पूर्व प्रधान लखविंदर जोहल ने लिया तो उसी समय जबरदस्त विरोध शुरू हो गया था। इस हालत में लखविन्दर जोहल भी यह भूल गए कि सर्वसम्मति से प्रधान चुनने की सही प्रकिर्या क्या है। यह तक कि वो पुरानी बॉडी को भंग करने भी भूल गए और नेगेटिव वोट में हाथ उठाने वालों की गिनती करना भी भूल गए। बस यही भूल 4 साल से भी ज्यादा का सफल और विवाद रहित कार्यकाल निभाने वाले लखविंदर जोहल को भी विवादों में ले आयी। उन्होंने भी नही सोचा होगा कि मानक का नाम लेते ही वो विवादों में आ जाएंगे। हालांकि सतनाम मानक और लखविंदर जोहल दोनों का यही कहना है कि सब कुछ नियमो के मुताबिक हुआ है। मनगढ़ंत बाते बनाई जा रही है। उधर अब इस मामले में कुछ पत्रकारों ने डीसी से शिकायत कर दी है और वीडियोग्राफी के आधार पर नियुक्ति रदद् करने की मांग की है।

एक तरफ चुनाव घोषित दूसरी तरफ जबरन प्रधान नियुक्ति!

डीसी को लिखे पत्र में राजेश थापा, रमेश गाबा समेत कई पत्रकारों ने कहा है कि एक तरफ चुनाव घोषित किये गए दूसरी तरफ AGM में जबरन प्रधान चुन लिया। यहां तक कि पुरानी टीम को रद्द भी नही किया और नए प्रधान के विरोध में उठे हाथ वाली वोट गिनी भी नही गयी। राजेश थापा का कहना है कि वो इस मामले में अदालत जा रहे है।

 

 

मुख्य समाचार